Places in Noida

नोएडा की कहानी | नोएडा शहर की जानकारी

नोएडा (नवीन ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण) भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर जिले में स्थित है । नोएडा  व्यवस्थित योजनाबद्ध भारतीय शहर है और नवीन ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण  (NOIDA) इसकी देख रेख और प्रभंधन करता है ।  1975-1977 के दौरान शहर यूपी औद्योगिक क्षेत्र विकास अधिनियम, 1976 के तहत बनाया गया था  । इसकी स्थापना 17अप्रैल 1976 को की गई और 17 अप्रैल को “नोएडा दिवस “ के रूप में मनाया जाता है । नोएडा  दिल्ली का एक उपनगरीय शहर है और भारत के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का हिस्सा है ।

 

नोएडा का इतिहास - नोएडा अस्तित्व की कहानी

वर्त्तमान नोएडा शहर के विकास के इतिहास का 1972 से शुरू हुआ , जब उत्तर प्रदेश की सरकार ने इस क्षेत्र में अनधिकृत जमींन की खरीद फ़रोख़त और अनियमित विकास की सम्भावना का ध्यान रखते हुए, दिल्ली के निकट स्थित  बुलंदशहर जिले के 50 गाँवों को U.P. Regulation of Building Operations Act, 1958 के तहत “यमुना -हिंडन -दिल्ली सीमा क्षेत्र ” के रूप में घोषित किया गया ।

प्राधिकरण ने विनियमित क्षेत्र के विकास के विभिन्न पहलुओं पर 5 साल  विचार किया , लेकिन एक नए शहर की स्थापना के लिए बहुत कुछ नहीं कर सकीं । अंत में , 17 April, 1976 को , उत्तर प्रदेश सरकार ने 36 गाँवों को नवीन ओखला औद्योगिक विकास क्षेत्र (नॉएडा ) के रूप में अधिसूचित किया ।

संस्कृति और विरासत - जिला गौतम बुद्ध नगर का इतिहास

जिला गौतम बुद्धनगर का गठन 6 सितम्बर 1997 को किया गया था । गाजियाबाद और बुलंदशहर के कुछ हिस्सों को लेकर एक नए जिले का गठन हुआ । जिला गौतम बुद्ध  नगर में गाजियाबाद से दादरी और बिसरख ब्लॉक शामिल किए गए , जबकि दनकौर और जेवर ब्लॉक को बुलंदशहर जिले से लिया गया । इसके आलावा बुलंदशहर के 18 अन्य गाँवों भी दनकौर और जेवर में शामिल किया गया ।

ऐतिहासिक रूप से  दनकौर, बिसरख, रामपुर जागीर और नलगढ़ा में कई इतिहास के चिन्ह हैं । दनकौर में द्रोणाचार्य और बिसरख में रावण के पिता विश्रवा ऋषि का प्राचीन मंदिर आज भी मौजूद हैं । द्वापर युग (महाभारत काल ) दनकौर में द्रोणाचार्य का आश्रम था , जहां कौरव और पांडव ने अस्त्र व् शास्त्र में प्रशिक्षण लिया था । एकलव्य जो द्रोणाचार्य के शिष्य थे वो भी इसी स्थान से ही थे ।

प्रसिद्द क्रांतिकारी राम प्रसाद, नोएडा के रामपुर जागीर गाँव में स्वतंत्रता के संघर्ष के दौरान कुछ समय के लिए भूमिगत रहे और पुस्तकों का अनुवाद किया । नोएडा ग्रेटर नोएडा राजमार्ग पर नालागढ़ में, भगत सिंह भूमिगत रहते हुए कई बम परीक्षण किए । आज भी एक विशाल पत्थर संरक्षित है । ब्रिटिश शासन काल में , 11 सितम्बर 1803 को ब्रिटिश सेना और मराठा सेना के बीच निर्णायक लड़ाई की याद में , नोएडा गोल्फ कोर्स परिसर में ब्रिटिश वास्तुकार F. Lisman “जीतगढ़ स्तम्भ ” का निर्माण किया था जो आज भी दूर से दिखाई देता है ।

नोएडा - एक नवीन शहर

नोएडा उत्तर प्रदेश राज्य के गौतम बुद्ध नगर जिले में स्थित है, जो दिल्ली के एनसीआर के करीब है । नोएडा शहर का क्षेत्रफल 203 वर्ग किमी है और भारत की जनगणना रिपोर्टें 2011 के अनुसार, नोएडा की जनसंख्या वर्ष २011 में 632,272 थी । जनगणना 2011 के अनुसार , २०11 में नोएडा शहर का घनत्व 2463 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है ।

नोएडा का स्थान उत्तर प्रदेश में सर्वश्रेष्ठ शहरो में से एक है और आवास और बुनियादी ढाँचे में सर्वश्रेष्ठ शहर के रूप में प्रथम स्थान दिया गया है । इसे भारत का सबसे हरा -भरा शहर माना जाता है और लगभग 50% शहर मैं पेड़ लगे हुए है , जो भारत में किसी भी शहर मैं सबसे ज्यादा है । नोएडा में कई बड़ी कंपनियों ने अपने कारोबार की स्थापना की है। इनमें IT, ITELS, BPO, KPO सेवाओं, बैंकिंग, वित्तीय सेवाओं, बीमा, फार्मा, ऑटो, FMCG और विनिर्माण जैसे विभिन्न कंपनियों यहाँ स्तिथ है। एक अध्ययन के मुताबिक यह शहर बेहतर बिजली-आपूर्ति, सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग के लिए उपयुक्त वातावरण और कुशल मानव संसाधन क्षमता से लैस शहर है।

नोएडा में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल्स, इंडियन एकेडमी ऑफ हाइवे इंजीनियरिंग, ICAI, IMS, IIM लखनऊ का नोएडा कैंपस, जेपी इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी और कई और अधिक प्रतिष्ठित स्थानीय विश्वविद्यालय हैं। यह उच्च शिक्षा के क्षेत्र में कई प्रतिष्ठित संस्थानों का केंद्र है, जिनमें MAF एकेडमी, Symbosis law स्कूल शामिल है। बैंक ऑफ इंडिया का स्टाफ प्रशिक्षण कॉलेज के साथ-साथ प्रसिद्ध स्कूल भी इस शहर में मौजूद हैं।

नोएडा बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए एक प्रमुख केंद्र है। पाइनलैब्स, सैमसंग, बार्कलेज शेयर्ड सर्विसेज, सीआरएमएनएक्सटी, हेडस्ट्रॉन्ग, आईबीएम, मिर्चकल, स्टेलर आईटी पार्क, यूनिटेक इंफोस्पेस और बहुत सारी कंपनियों के दफ्तर इस शहर में हैं। कई बड़ी सॉफ़्टवेयर और बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग कंपनियां के भी इस शहर में अपने कार्यालय हैं। इस शहर में लगभग सभी प्रमुख भारतीय बैंकों की शाखाएं मौजूद हैं। 

नोएडा शहर, नोएडा विधानसभा सीट और गौतम बुद्ध नगर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा है । महेश शर्मा गौतम बुद्ध नगर से लोकसभा के सांसद हैं , जबकि पंकज सिंह नोएडा के वर्त्तमान विधायक हैं ।

Sources: Noida Master Plan & gbnagar.nic.in 

6 thoughts on “नोएडा का इतिहास | गौतम बुद्ध नगर का इतिहास”

  1. Pingback: Villages in Noida. Noida's Village

  2. Pingback: Top Shopping Malls in Noida

  3. Pingback: Top Hospitals in Noida

  4. Pingback: Metro Stations in Noida I Noida Metro

  5. Pingback: Top Newspapers in Noida

  6. Pingback: Noida Administration and Legislators. - MP & MLA

Leave a Comment

Your email address will not be published.